महागठबंधन में दरार! पटना लौटे मांझी के तेवर अब भी तल्ख, 26 को HAM कर सकता है कोई बड़ा फैसला। Manjhi returned sore to Patna, HUM might make a grand decision on 26th | patna – News in Hindi

0
1


महागठबंधन में दरार! पटना लौटे मांझी के तेवर अब भी तल्ख, 26 को HAM कर सकता है कोई बड़ा फैसला

दिल्ली से पटना लौटे मांझी. HAM के तेवर अब भी सख्त.

हम प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा, ‘हमलोग इस डेडलाइन तक कोऑर्डिनेशन कमिटी बनने का इंतजार करेंगे. उसके बाद हम अपना फैसला लेने के लिए स्वतंत्र हैं. कल दिन में 11 बजे पटना में पार्टी की बैठक बुलाई गई है, जिसमें आगे के कदम पर विचार किया जाएगा.

पटना. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी (Former CM Jitan Ram Manjhi) दो दिन के दौरे के बाद पटना (Patna) लौट आए. लेकिन, अभी भी उनके तेवर तल्ख ही दिख रहे हैं. हालांकि जीतनराम मांझी ने खुद तो कुछ नहीं कहा, लेकिन उनकी पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के प्रवक्ता की तरफ से जो कहा गया वह महागठबंधन के भीतर की हलचल को सामने रखता है. हम प्रवक्ता दानिश रिजवान ने महागठबंधन में कोऑर्डिनेशन कमिटी बनाने की मांग को लेकर तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने न्यूज 18 से बात करते हुए कहा, ‘हमारी पार्टी की तरफ से जगतानंद सिंह से बात करने के लिए फतुहा के प्रखंड अध्यक्ष राजन राज को अधिकृत किया गया है. लिहाजा, जगतानंद सिंह राजन राज से बात कर लें.’

तेजस्वी के बयान पर भड़की मांझी की पार्टी

ध्यान रहे कि तेजस्वी यादव ने न्यूज 18 के ई-एजेंडा कार्यक्रम में कोऑर्डिनेशन कमिटी की मांग को लेकर जीतनराम मांझी को आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगतानंद से बात करने की सलाह दी थी. इसी बयान पर हम पार्टी विफर गई है. तेजस्वी यादव की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी को दिखाए गया तेवर नागवार गुजरा है. यह सब तब हो रहा है जब एक दिन पहले ही शाम को महागठबंधन के सभी दलों की वर्चुअल मीटिंग में साथ मिलकर आगे बढ़ने की बात कही गई थी. लेकिन, तेजस्वी यादव के बयान ने एक बार फिर मांझी के तेवर को तल्ख कर दिया है.

शुक्रवार को हम की बैठकन्यूज 18 से हम प्रवक्ता दानिश रिजवान ने यहां तक कह दिया, ‘आज 25 जून की रात 10 बजे तक का हमारा डेडलाइन है. हमलोग इस डेडलाइन तक कोऑर्डिनेशन कमिटी बनने का इंतजार करेंगे. उसके बाद हम अपना फैसला लेने के लिए स्वतंत्र हैं. कल दिन में 11 बजे पटना में हम पार्टी की बैठक बुलाई गई है, जिसमें आगे के कदम पर विचार किया जाएगा.’

दिल्ली की बैठक का बहुत असर नहीं

गौरतलब है कि मांझी कांग्रेस आलाकमान के बुलावे पर मंगलवार को दिल्ली गए थे. उसी रात उनकी कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सदस्य अहमद पटेल (Ahmed Patel) से मुलाकात हुई थी. साथ में कांग्रेस सांसद अखिलेश सिंह (Akhilesh Singh) और आरएलएसपी (RLSP) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) भी थे. उसके अगले ही दिन बुधवार की शाम महागठबंधन के नेताओं की वर्चुअल मीटिंग बुलाई गई, जिसमें कांग्रेस समेत सभी दलों के नेता शामिल हुए. इस मीटिंग में हम की तरफ से पार्टी अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी खुद थे, जबकि आरएलएसपी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा, वीआईपी अध्यक्ष मुकेश सहनी और शरद यादव की पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल की तरफ से अर्जुन राय ने शिरकत की. कांग्रेस की तरफ से अहमद पटेल पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, बिहार विधानसभा में सीएलपी लीडर सदानंद सिंह और प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा मौजूद रहे. जबकि सबसे महत्वपूर्ण रहा आरजेडी का इस वर्चुअल मीटिंग में शामिल होना. आरजेडी की तरफ से नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव तो शामिल नहीं हुए, लेकिन आरजेडी के प्रतिनिधि के तौर पर राज्यसभा सांसद मनोज झा ने अपनी बात रखी.

26 जून को हम करेगा कोई फैसला

लंबे वक्त बात ऐसा हुआ कि आरजेडी का कोई प्रतिनिधि इस तरह की मीटिंग में शामिल हुआ. क्योंकि जीतनराम मांझी पिछले साल के आखिरी महीने से ही अल्टीमेटम पर अल्टीमेटम देते रहे हैं, लेकिन, उसका कोई प्रभाव आरजेडी पर नहीं पड़ा है. मांझी कोऑर्डिनेशन कमिटी बनाने की मांग करते हुए कई बार डेडलाइन दे चुके हैं, लेकिन हर बार यह डेडलाइन खत्म हो जाती है और आरजेडी उनकी मांग को अनसुना करता रहा है. मार्च के अंत में लॉकडाउन होने और सबकुछ ठप्प होने के कारण राजनीति और बिहार की चुनावी चर्चा भी बंद हो गई थी. लेकिन, अनलॉक होने के साथ ही जून की गर्मी में एक बार फिर से बिहार की सियासी सरगर्मी तेज हो गई है. इस बार पहले से ही खार खाए मांझी ने एक नई डेडलाइन दे दी थी, जिसकी मियाद आज 25 जून को ही खत्म हो रही है. अब देखना है कि दिल्ली से पटना लौटने के बाद मांझी एक और डेडलाइन देते हैं या फिर कल 26 जून की होने वाली पार्टी की मीटिंग में कोई बड़ा फैसला करते हैं.


First published: June 25, 2020, 4:27 PM IST





Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें