चीन में रहे लेखक गॉर्डन चांग ने कहा- भारत की ताकत और बढ़ती आबादी से डरता है ड्रैगन – India china border tension author gordon g chang president xi jinping galwan valley

0
2


  • ‘चीन के लोगों के लिए आबादी ही ताकत, भारत के पास ये ताकत आने वाली’
  • ‘जिनपिंग अगर विफल होते हैं तो उन्हें लगता है कि वो सत्ता खो सकते हैं’

कोरोना महामारी के बीच LAC पर भारत और चीन के बीच तनाव कायम है. एक महीने से ज्यादा समय से जारी इस तनाव के बाद लोगों के मन में यही सवाल है कि आखिर बीजिंग क्या सोच रहा है. अब तक लोगों ने चीन को लेकर सेना से जुड़े लोगों की राय जानी, लेकिन अब मौका है कि उस शख्स से जानने का जो चीन की राजनीति और वहां के समाज को बेहतर ढंग से समझता है. जी हां, हम लेखक गॉर्डन चांग की बात कर रहे हैं. गॉर्डन चांग चीन और हांगकांग में दो दशक से ज्यादा समय तक रहे हैं. उन्होंने Coming collapse of China नाम से एक किताब भी लिखी है.

इंडिया टुडे टीवी के शो न्यूजट्रैक में शिरकत करते हुए गॉर्डन चांग ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग पर सीधा निशाना साधा. कोरोना महामारी के बीच ऐसी क्या चीज है जिससे चीन सीमा पर तनाव बढ़ाने को मजबूर हो रहा है. इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कई चीजें हो सकती हैं. हमें ये बात समझना होगा कि वे अभी-अभी कोरोना महामारी से बाहर निकले हैं. मुझे पता है कि वे इसे लेकर संवेदनशील होंगे. चीन फिलहाल दुनिया में कोरोना वायरस पर हो रही चर्चा से ध्यान भटकाना चाह रहा है. फिर भी शी जिनपिंग इस समय कई देशों पर निशाना साध रहे हैं. इसमें भारत ही नहीं, साउथ चाइना सी, अमेरिका, पश्चिमी यूरोप के कई देश शामिल हैं. ये उनके एक लंबे कार्यक्रम का हिस्सा है.

गॉर्डन चांग ने कहा कि ये बहुत खतरनाक है, क्योंकि शी जिनपिंग अगर विफल होते हैं तो उन्हें लगता है कि वो सत्ता खो सकते हैं. वो कुछ भी करने में सक्षम हैं.

सिकुड़ रही है चीन की अर्थव्यवस्था

कोरोना महामारी के बाद चीन में और वहां की कम्युनिस्ट पार्टी के अंदर क्या चल रहा है इसपर गॉर्डन चांग ने कहा कि हमें पहले चीन की अर्थव्यवस्था को देखना होगा. जो लगातार सिकुड़ रही है. चीन के लोग नाखुश हैं. उन्हें नहीं पता क्या होगा. और शी जिनपिंग की पॉलिसी साल 2019 में चीन के लिए खराब परिणाम लाई. शी जिनपिंग के पास बहुत कम लोग हैं जिनको वो दोष दें. क्योंकि पूरी सत्ता तो उन्हीं के पास है. इसका मतलब है कि वह जिम्मेदार हैं. वो जीत चाहते हैं. और ऐसे में वह भारत से उसके क्षेत्र पर कब्जा करना चाहते हैं. और उसको चीन के लिए एक जीत के तौर पर दिखाना चाहते हैं.

capture_062720090631.png

गॉर्डन चांग ने कहा कि चीन के लोग को ज्यादा पता होगा कि शी जिनपिंग की नीतियां सीमा पर अच्छे से काम कर रही हैं या नहीं. भारत को अभी चीन को कैसे जवाब देना चाहिए. इसपर उन्होंने कहा कि भारत सीमा पर सबसे पहले अपने सैनिकों को और शक्तिसाली बनाए. चीन को वहां पर चोट पहुंचाए जहां उसे सबसे ज्यादा लगती है. भारत उसकी अर्थव्यवस्था को चोट पहुंचाए. चीनी कंपनियों के साथ करार को रद्द करे. चीन के टेलिकॉम उपकरणों को इजाजत नहीं मिले. चीनी सामानों का बहिष्कार हो. इस बात को लेकर भारत को स्पष्ट रहना होगा कि वह चीन को ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाला है.

‘भारत से डरता है चीन’

गॉर्डन चांग ने कहा कि चीन भारत से डरता है. चीन को लगता है कि वो भारत को पीछे धकेल सकता है. कई दशकों से वो ऐसा करते आ रहा है. लेकिन अगर आप एट्टीट्यूड के साथ पेश आएंगे तो वो आपके साथ इज्जत के साथ पेश आएंगे. वो आपसे कोई भी खतरा नहीं लेंगे.

चीन क्यों भारत से डरता है, इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि चीन को पता कि भारत की जनसंख्या उसकी ताकत है. वे इसके बार में अक्सर बातें भी किया करते हैं. बीजिंग को भी पता है कि चीन की जनसंख्या कम हो रही है. और उन्हें पता है कि भारत दुनिया का सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला देश होगा. और ये चीन के नेता और वहां के लोगों को स्वीकार करना मुश्किल होगा. उन्हें पता है कि भारत की अर्थव्यवस्था ऊपर की ओर जा रही है. उनकी जनसंख्या हमसे ज्यादा हो रही है. और चीन भारत की बढ़ती ताकत से चिंता में है. आप इस बात को याद रखिए कि चीन के लोगों के लिए जनसंख्या ही ताकत है. और भारत के पास ये ताकत आने वाली है.

गॉर्डन चांग ने कहा कि चीन धमकी देने में बहुत अच्छा है. दुनिया के बाकी देशों के लोगों में चीन को लेकर गुस्सा है. चीन निर्यात पर ही भरोसा करता है. और कंपनियां चीन को छोड़कर जा रही हैं. और वो भारत का रुख कर रही हैं. चीन को लग रहा है कि अगर वो भारत का अभी नुकसान नहीं कर पाया तो आने वाले तीन चार सालों में भी नहीं कर पाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS





Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें