कोरोना: महाराष्ट्र में बड़ी राहत, आज से खुलेंगे सैलून-ब्यूटी पार्लर – Barber shops spas saloons and beauty parlours bear up to starts shops in maharashtra with certain guidelines coronavirus lo

0
1


  • दुकानों को कुछ दिशा-निर्देशों के साथ खोलने की अनुमति
  • बाल काटने, हेयर डाइंग, वैक्सिंग, थ्रेडिंग की इजाजत है

भारत में जब कोरोना वायरस का प्रकोप शुरू हुआ तो महाराष्ट्र में मुंबई एपिसेंटर बनकर उभरा. सबसे ज्यादा केस और सबसे ज्यादा मौतें मुंबई से दर्ज हुईं. लेकि‍न पिछले कुछ दिनों से मुंबई की तस्वीर थोड़ी बदलनी शुरू हो गई है. लिहाजा, महाराष्ट्र में रविवार से नाई की दुकान, स्पा, सैलून और ब्यूटी पार्लर खुल जाएंगे. राज्य सरकार ने इन दुकानों को कुछ दिशा-निर्देशों के साथ खोलने की अनुमति दी है.

दुकानों को पूर्व निर्धारित अपॉइंटमेंट के आधार पर चलाने की इजाजत होगी. सैलून और नाई की दुकानों में सरकार की ओर से निर्धारित एहतियात के साथ बाल काटने, हेयर डाइंग, वैक्सिंग, थ्रेडिंग को अनुमति है. जबकि दुकान में काम करने वाले कर्मचारियों को इन सेवाओं को मुहैया कराते वक्त दस्ताने, एप्रन और मास्क पहनने होंगे. हर सर्विस के बाद कुर्सियों को सैनिटाइज करना होगा.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

दुकानदार को ग्राहकों के लिए तौलिया या नैपकिन का इंतजाम करना होगा. साथ ही दुकान के फर्श को हर दो घंटे में साफ करना होगा.

महाराष्ट्र नाई महामंडल के अध्यक्ष दत्ता अनारसे ने कहा, “हम मॉनिटरिंग के साथ-साथ दुकान पर आने जाने वाले ग्राहकों का विवरण लेने जैसी अतिरिक्त सावधानी भी बरतेंगे.” दत्ता अनारसे ने कहा, “हम अभी स्किन संबंधी सेवाएं ऑफर नहीं करेंगे, सैलूनों में इसकी अनुमति नहीं होगी, ताकि ग्राहक और दुकान के बीच किसी तरह का फिजिकल कॉन्टैक्ट न हो. हम इन दिशा-निर्देशों को दुकानों में चस्पा करेंगे.”

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

कोरोना वायरस की शुरुआत होने के साथ बाल काटने का काम करने वाले लोगों पर आर्थिक संकट खड़ा हो गया क्योंकि लॉकडाउन और संक्रमण के डर की वजह से इनकी दुकानें बंद हो गईं. नतीजा ये हुआ कि महाराष्ट्र में आर्थिक संकट के चलते बाल काटने वाले 6 लोगों ने आत्महत्या कर ली.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

दत्ता अनारसे ने कहा, “सैलून खुलने से हमें और हमारे सहयोगियों को राहत मिली है. हम बहुत कठिन दौर से गुजर रहे हैं. शहर में गुजारा करना आसान है लेकिन गांवों में जीवन बहुत मुश्किल है. दिहाड़ी पर काम करने वाले लोग अनुदान में मिले भोजन पर गुजर बसर कर रहे हैं.”

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS





Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें