दीवार पर LED टीवी और मॉड्यूलर किचेन, ये प्राइवेट प्ले स्कूल नहीं बल्कि बिहार का एक आंगनबाड़ी केंद्र है government of bihar developed anganbadi centers as private play and kids school bramk | patna – News in Hindi

0
2


दीवार पर LED टीवी और मॉड्यूलर किचेन, ये प्राइवेट प्ले स्कूल नहीं बल्कि बिहार का एक आंगनबाड़ी केंद्र है

पटना जिला के एक आंगनबाड़ी की तस्वीर

बाल विकास परियोजना पदाधिकारी प्रीति पटेल ने बताया कि बाढ़ और अथमलगोला में पाँच केंद्रों को आधुनिक केंद्र बनाया जा रहा है. हर केंद्र को मॉडल के तौर पर डेवलप करने के लिए सरकार ने दो-दो लाख रुपए की राशि आवंटित की है.

पटना. बड़े-बड़े और नामचीन प्ले स्कूलों (Kids Play School) को देख कर ग्रामीण क्षेत्रो के गरीब बच्चों की भी इस तरह के स्कूलों में पढ़ने की इच्छा होती रही है लेकिन वो पैसे के अभाव में ऐसा नहीं कर पाते हैं लेकिन उनकी इस इच्छा को अब सरकार पूरी करती दिख रही है. सरकार ने पटना (Patna) जिला के बाढ़ और अथमलगोला में मॉडल आंगनबाड़ी (Model Anganbadi Centers) के तौर पर पाँच केंद्रों को अपग्रेड किया है. इनको ऐसा लुक दिया गया है जिसे देख कोई भी यकीन नहीं करेगा कि ये सरकारी संस्थान हैं. आने वाले दिनों में सरकार की ऐसे ही केंद्रों को प्ले स्कूल के तर्ज़ पर डेवलप करने की योजना है. 26 फरवरी 2019 को पहले मॉडल केंद्र का उदघाटन बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने किया था.

आधुनिक बना आंगनबाड़ी केंद्र

इन आंगनबाड़ी केंद्रों को बच्चों के आकर्षण को ध्यान में रख कर बनाया गया है. दीवारों पर एक से बढ़ कर एक चित्रकारी और ज्ञानवर्धक बाते बताई गई हैं साथ हीं बच्चों को गर्म शुद्ध और हेल्दी खाना उपलब्ध कराने के लिए इन केंद्रों में किचेन की भी व्यवस्था है जहां चार्ट के हिसाब से बच्चों के लिए खाना बनाया जाता है. इसके अलावा प्ले स्कूल की तरह बच्चों के खेलने की भी पुरी व्यवस्था की गई है जिसमें झुला और खिलौने जैसी चीजें शामिल है. सरकार की कोशिश है की इन केंद्रों पर वंचित बच्चों के लिए इस कदर तैयार की जाय की जहाँ बच्चों की शिक्षा की पहली सीढ़ी आधुनिक संसाधनों के जरिये उपलब्ध कराई जाय जो आम बच्चों को मिलता है.

पांच मॉडल केंद्रों का हुआ है निर्माणइलाके की बाल विकास परियोजना पदाधिकारी प्रीति पटेल ने बताया कि बाढ़ और अथमलगोला में पाँच केंद्रों को आधुनिक केंद्र बनाया जा रहा है. हर केंद्र को मॉडल के तौर पर डेवलप करने के लिए सरकार ने दो-दो लाख रुपए की राशि आवंटित की है. उन्होंने बताया की सरकार की मंशा है कि जो गरीब और वंचित बच्चे हैं उन्हें हर वो सुविधा दी जाय जो आम बच्चों को मिलती है. उन्होंने बताया की जिलाधिकारी महोदय खुद इसे लेकर गम्भीर हैं और वो चाहते हैं की गरीब बच्चे को सरकार के इस योजना का पूरा लाभ मिले. जिला प्रोग्राम पदाधिकारी भारती प्रियम्बदा ने भी इस काम को काफ़ी प्रमुखता से करने का आदेश सभी अधिकारियों को दिया है.

बिहार के मंत्री ने ट्वीट की फोटो

मॉडल आंगनबाड़ी केंद्र के तस्वीरों को बिहार सरकार के मंत्री संजय झा और पटना जिलाधिकारी कुमार रवि ने ट्वीट भी किया है उन्होंने लिखा है ये कोई प्ले स्कूल नही है ये आंगनबाडी केंद्र है. यानी शिक्षा के स्तर में कैसे सुधार किया जा रहा है इन केंद्रों से ये स्पष्ट है.

 लोगों को है केंद्र खुलने का इंतजार

पटना का एक आंगनबाड़ी केंद्र

पटना का एक आंगनबाड़ी केंद्र

रामनंगर दियारा के मुखिया पंकज कुमार सिंह ने बताया कि इस मॉडल केंद्र के खुलने का इंतज़ार बच्चों के साथ सभी को है. कोरोना के चलते अभी सभी केंद्र बंद है हमें इंतज़ार है की जल्द ये केंद्र खुले और बच्चे इसका लाभ लें.

 रिपोर्ट- अनिरूद्ध


First published: June 29, 2020, 12:20 PM IST





Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें