मुजफ्फरपुर: कल से फिर बंद हो जाएंगे बाबा गरीब नाथ मंदिर के पट, श्रावणी महोत्सव पर भी रोक | muzaffarpur – News in Hindi

0
2


मुजफ्फरपुर: कल से फिर बंद हो जाएंगे बाबा गरीब नाथ मंदिर के पट, श्रावणी महोत्सव पर भी रोक

मुजफ्फरपुर के बाबा गरीबनाथ मंदिर में श्रावणी महोत्सव पर बैन.

कोरोना संक्रमण (Corona infection) के बढ़ते मामलों को देखते हुए 1 जुलाई से गरीब नाथ मंदिर को भक्तों के लिए बंद करने का फैसला किया गया है.

मुजफ्फरपुर. बाबा गरीब नाथ मंदिर में इस साल श्रावणी महोत्सव का आयोजन नहीं किया जाएगा. कोरोना संक्रमण को देखते हुए गरीब नाथ मंदिर न्यास समिति ने महोत्सव और बाबा पर जलाभिषेक को पूरी तरह रद्द करने का फैसला लिया है. बता दें कि हर साल सावन शुरू होते ही मुजफ्फरपुर में बिहार सरकार के मंत्री के हाथों श्रावणी महोत्सव का शुभारंभ किया जाता है. इसके बाद सावन के हर एक दिन उत्तर बिहार और नेपाल सहित अलग-अलग इलाकों से भारी संख्या में श्रद्धालु जलाभिषेक के लिए गरीब नाथ मंदिर पहुंचते हैं. विशेष तौर पर सावन महीने के प्रत्येक सोमवार को यहां जलाभिषेक के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है.

1 जुलाई से बंद रहेगा बाबा गरीब नाथ मंदिर
गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाउन की अवधि में गरीब नाथ मंदिर पूरी तरह बंद था. श्रद्धालुओं को मंदिर जाकर पूजा अर्चना और जलाभिषेक की अनुमति मंदिर न्यास समिति द्वारा नहीं दी गई थी. लेकिन अनलॉक-1.0 होने के बाद दूसरे मंदिरों की तरह मुजफ्फरपुर के गरीब नाथ मंदिर में भी सोशल डिस्टेंसिंग और दूसरी सावधानियों का पालन कर पूजा अर्चना शुरू कर दी गई थी. अब एक बार फिर 1 जुलाई से पूरी तरह गरीब नाथ मंदिर को भक्तों के लिए बंद करने का फैसला लिया गया है. हालांकि, इस दौरान मंदिर का पट बंद होने के बाद भी पुजारी बाबा को भोग और आरती करते रहेंगे.

 मंदिर के आसपास के मोहल्लों में कोरोना मरीजबता दें कि मुजफ्फरपुर में लगातार कोरोना संक्रमण फैलता जा रहा है. अब तक 300 से अधिक मामले जिले में कोरोना संक्रमण के पाए जा चुके हैं. ग्रामीण क्षेत्रों के अलावा शहरी क्षेत्रों में भी तेजी कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आ रहे हैं. गरीब नाथ मंदिर के आसपास के मोहल्लों में भी कई लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इसके बाद मंदिर न्यास समिति सावन में भक्तों की होने वाली थी को देखते हुए सालों से चली आ रही है, लेकिन जलाभिषेक की परंपरा को रोकने का फैसला लिया है. यह पहला मौका है जब किसी आपदा की वजह से सावन माह में बाबा गरीब नाथ मंदिर में भक्तों को जलाभिषेक करने से रोका गया है.

पूरे सावन महीने में श्रद्धालु करते हैं जलाभिषेक
बाबा गरीब नाथ मंदिर को बिहार का देवघर कहा जाता है. यहां सावन माह में हरेक सोमवारी को लाखों श्रद्धालु जलाभिषेक के लिए पहुंचते हैं. सोनपुर के पहलेजा घाट से पवित्र गंगाजल लेकर कांवरियों का जत्था बाबा को जलाभिषेक करने के लिए आते हैं. पिछले कई वर्षों से जलाभिषेक की परंपरा सावन माह में चली आ रही है.  इसको देखते हुए सरकार के कला एवं संस्कृति विभाग ने सांवरिया सर्किट तक विकसित करने का फैसला लिया था. लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए भक्तों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए मंदिर न्यास समिति मंदिर को बंद रखने का फैसला लिया है.

First published: June 30, 2020, 11:30 AM IST





Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें